WI-FI

ब्रॉडबैंड VS वाई-फाई : अंतर क्या है?

Thursday, Dec 16, 2021 · 10 mins

428

ब्रॉडबैंड और वाई-फाई के बीच अंतर
  • Share

ब्रॉडबैंड और वाई-फाई दो ऐसे शब्द हैं जिनको अक्सर एक दूसरे की जगह पर इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि ये दो बिलकुल अलग चीजें हैं और इनको समझा जाना भी जरूरी है। ताकि आप इंटरनेट से जुड़ी सभी बातें समझ सकें।

आम भाषा में समझें तो वाई-फाई डाटा ट्रांसफर करने के लिए रेडियो फ्रीक्वेंसी और सिग्नल का इस्तेमाल करता है। इसमें तार का प्रयोग नहीं होता है। जबकि ब्रॉडबैंड में हाई स्पीड इंटरनेट का इस्तेमाल करके डाटा ट्रांसफर होता है।

ब्रॉडबैंड कनेक्शन क्या है?

ब्रॉडबैंड का मतलब व्यापक बैंडविड्थ डाटा ट्रांसमिशन से है। डाटा के तौर पर इंटरनेट के बारे में सोचिए जो दो डिवाइस के बीच में ट्रांसफर होता है। इस स्थिति में ब्रॉडबैंड वो रास्ता है जिस पर डाटा चलता है। ब्रॉडबैंड कनेक्शन कई तरह के होते हैं जैसे एएसएल, डीएसएल, केबल, फाइबर आदि। इन सभी तकनीक का मकसद यूजर्स को हाई स्पीड इंटरनेट देना है। उदाहरण के लिए फाइबर ऑप्टिक केबल्स को अभी तक की बेस्ट तकनीक माना जा रहा है। इसमें यूजर्स को सिमिट्रिकल स्पीड और हाई बैंडविड्थ मिलती है।

ब्रॉडबैंड कनेक्शन कैसे काम करता है?

ब्रॉडबैंड से इंटरनेट डाटा पुराने डायल अप की सिंगल लाइन की बजाय कई सारी लाइंस के माध्यम से मिलता है। ब्रॉडबैंड शब्द का मतलब ही यही है कि इसमें डाटा ट्रांसफर के लिए एक से ज्यादा बैंड का इस्तेमाल होता है।

सामान्य रूप से समझें तो डायल अप को आप एक ऐसी गली की तरह समझ सकते हैं जहां एक समय पर सिर्फ एक वाहन ही जा सकता है। जबकि ब्रॉडबैंड एक हाईवे की तरह है जिसमें कई सारी लाइन हैं और जिस पर कई सारे वाहन चल सकते हैं। यहां पर हर वाहन डाटा पैकेट है जो आपको ट्रांसमिट होता है।

एक साथ एक ही समय पर कई सारे डाटा पैकेट का ट्रांसफर होना ब्रॉडबैंड के माध्यम से इंटरनेट की स्पीड बढ़ा देता है।

वाई-फाई क्या है?

Looking for an internet plans that
offer 24x7 assured speeds?

Connect now to get the best of broadband plans and get additional offers on:

वाई-फाई तकनीक में दो डिवाइस के बीच बिना तार के रेडियो फ्रीक्वेंसी और सिगनल्स का इस्तेमाल करके जानकारी का लेन-देन होता है। वाई-फाई को वो माध्यम माना जा सकता है जहां पर ब्रॉडबैंड बिना तार के ही मिल जाता है। सभी वाई-फाई कनेक्शन दो फ्रीक्वेंसी बैंड पर काम करते हैं 2.4Ghz और 5Ghz। 2.4Ghz को कम बैंडविड्थ और ज्यादा दूरी के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जबकि 2.4Ghz को कम दूरी और ज्यादा बैंडविड्थ के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

वाई-फाई कनेक्शन कैसे काम करता है?

सभी वाई-फाई कनेक्शन में डाटा के लेन-देन के लिए दो फ्रीक्वेंसी बैंड 2.4Ghz और 5Ghz को इस्तेमाल किया जाता है। सबसे पहले रूटर और मॉडम से जानकारी के लिए इंटरनेट की मांग की जाती है। फिर इसकी प्रतिक्रिया मॉडम के माध्यम से रूटर को दी जाती है। इसके बाद रूटर तार के बिना ही डिवाइस को जानकारी दे देता है।

ब्रॉडबैंड और वाई-फाई में क्या अंतर है?

ब्रॉडबैंड एक तरह का इंटरनेट कनेक्शन है जो आपको इंटरनेट सेवाएं देने वाली कंपनी की ओर से मिलता है। वाई-फाई एक टेक्नोलॉजी है और इंटरनेट लेने के लिए जरूरी उन माध्यमों में से एक है जो ब्रॉडबैंड से कनेक्शन बनाते हैं। ब्रॉडबैंड से इंटरनेट लेने के लिए रूटर और डिवाइस को लैन केबल से जोड़ दिया जाता है। हालांकि वाई-फाई कनेक्शन की खासियत ये है कि इसमें इंटरनेट लेने के लिए दो डिवाइस के बीच कोई भी फिजिकल कनेक्शन नहीं बनाया जाता है।

अगर आप अपने घर या ऑफिस के लिए हाई स्पीड इंटरनेट चाहते हैं तो आप ACT Fibernet के इंटरनेट प्लान को यहां देख सकते हैं।

Read tips and tricks to increase your wifi speed here

Be Part Of Our Network

Related Articles

Most Read Articles

PAY BILL

4 easy ways to pay ACT Fibernet bill online

Monday, Dec 04, 2017 · 2 Mins
1195050

WI-FI

Simple Ways to Secure Your Wi-Fi

Wednesday, May 16, 2018 · 10 mins
530695
Read something you liked?

Find the perfect internet plan for you!